Gujrat Mukhyamantri Matru Shakti Yojana | गुजरात मुख्यमंत्री मातृशक्ति योजना 2022

गुजरात सरकार द्वारा मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना 2022 का शुभारंभ किया गया है। इस योजना का शुभारंभ हमारे प्रिय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा उनके माता जी के 100 वे जन्मदिन के अवसर पर गुजरात के वडोदरा में 18 जून 2022 को किया गया।

इस दिन को माताओं को समर्पण करते हुए प्रधानमंत्री जी ने माताओं की देखभाल के लिए विभिन्न योजनाओं की शुरुआत की है जिनमें से मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना सबसे जरूरी है। क्योंकि प्रधानमंत्री जी का मानना है कि हमारी माताएं गर्भ के समय सबसे ज्यादा भरण पोषण की आवश्यकता होती है।

प्रदेश में माताओं को गर्भ के समय से 1000 दिन तक भरण पोषण का पूरा ध्यान सरकार द्वारा रखा जाएगा। सरकार का मानना है कि यह समय बहुत ही जरूरी होता है इस समय में माता को पोषण की सबसे ज्यादा आवश्यक होती है जिससे की माता और बच्चे दोनों को संपूर्ण रुप से वृद्धि तथा पोषण मिल सके।

योजना को लागू करके 800 करोड का खर्च किया जाएगा जिससे कि माताओं को काफी लाभ पहुंचेगा और अन्य प्रकार की सुविधाएं भी माताओं को प्रदान की जाएंगी जिसके लिए माताओं को गर्के बाद नजदीक आंगनवाड़ी में अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा और उसके बाद इस योजना का लाभ एवं उनको प्राप्त हो जाएगा।

गर्भ के समय खराब पोषण माता तथा बच्चे (भ्रूण) के विकास में रुकावट पैदा करता है और बाद में वह माता और बच्चे में कुपोषण भी पैदा करता है जिसकी वजह से बाद में माता और बच्चे के विकास में काफी अड़चन आती है इसलिए सरकार इस परेशानी को ध्यान में देते हुए मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना की शुरुआत की है।

Key higlights of Mukhyamantri Matru Shakti Yojana

योजना का नाम मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा
कब शुरू की गई
किस राज्य मेंगुजरात
माताओं तथा बच्चों को पोषण युक्त आहार उपलब्ध करवाना
Gujarat Mukhyamantri Matru Shakti Yojana

Mukhyamantri Matru shakti Yojana 2022

मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना 2022 के अंतर्गत सरकार अभी 118 करोड रुपए का आवंटन कर रही है जिससे कि गर्भवती महिला के लिए चने तेल और दाल भेजी जाएंगे जिससे कि उनको भरपूर पोषण मिल सके और उनके गर्भ में पल रहे बच्चे को संपूर्ण रुप से पोषण मिल सके ताकि आगे चलकर बच्चे में कोई परेशानी ना आए और उसका संपूर्ण विकास हो। इस योजना का मुख्य उद्देश्य बच्चे तथा माता के मृत्यु दर को कम करना है।

सरकार द्वारा देश में माताओं को विशेष दर्जा देते हुए विभिन्न प्रकार की योजनाओं का क्रियान्वयन किया जाता है ऐसी ही उपयोगी योजनाओं का लाभ प्राप्त करने के लिए हमारे साथ जुड़े रहे तथा हमारे लिए को निरंतर बढ़ते रहें जिससे कि ऐसी योजनाओं की जानकारी आपको सबसे पहले प्राप्त हो सके और आप इस तरीके की योजनाओं का लाभ उठा सकें।

Mukhyamantri matru shakti yojana

मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना के उद्देश्य

  • गुजरात मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना का मुख्य उद्देश्य माताओं को उच्च पोषण युक्त आहार उपलब्ध करवाना है जिससे की माता तथा बच्चा दोनों सुरक्षित रहे और उनके विकास पर कोई प्रभाव नहीं पड़े।
  • माता तथा बच्चे के विकास को और तेजी से या पर्याप्त मात्रा में पोषण देखकर बढ़ाना है तथा साथ में कुपोषण से दोनों को बचाना है जिससे कि बच्चे और माता को आगे चलकर कोई परेशानी ना आए।
  • योजना के अंतर्गत गर्भ के धारण करने के बाद गर्भवती महिला को 2 किलो चना, 1 किलो दाल तथा 1 किलो खाने योग्य तेल प्रदान किया जाएगा जो कि पोषण के लिए बहुत जरूरी है।
  • इस योजना का एक देश यह भी है कि बच्चे तथा माता को कुपोषण और एनीमिया से बचाया जा सके ताकि उनकी वर्दी में कोई प्रभाव ना पड़े। जिससे कि बच्चे के जन्म के बाद भी बच्चे का विकास संपूर्ण रूप से निरंतर होता रहे।

मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना का लाभ

  • इस योजना का लाभ मुख्यतः प्रदेश की गर्भवती महिलाओं को भरपूर पोषण उपलब्ध करवाना है।
  • इस योजना का लाभ उन गर्भवती महिलाओं को प्राप्त होगा जिन्होंने अपने नजदीक आंगनवाड़ी में गर्व के बाद रजिस्ट्रेशन करवाया है।
  • योजना के द्वारा गर्भवती महिला को 2 किलो चना, 1 किलो दाल तथा 1 किलो खाने योग्य तेल उपलब्ध करवाया जाएगा जिससे कि ओटीपी के द्वारा वेरीफाई किया जाएगा ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि यह खाद्य सामग्री गर्भवती महिला तक पहुंच रही है।
  • इस योजना के लागू होने के बाद गर्भवती महिला को कुपोषण तथा एनीमिया से काफी लाभ प्राप्त होगा जिससे कि आगे चलकर उनकी विकास और वृद्धि में कोई अड़चन नहीं आएगी।

मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना की पात्रता

  • योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए महिला गर्भवती होनी चाहिए तथा गुजरात प्रदेश की स्थाई निवासी होनी चाहिए।
  • योजना का लाभ लेने के लिए गर्भवती महिला को नजदीक आंगनवाड़ी में अपना रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी है जिससे कि इस योजना का लाभ उनको मिल सके।
  • योजना का लाभ लेने के लिए आप किसी भी नजदीक आंगनवाड़ी केंद्र पर जाकर इस योजना के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते हैं तथा इसके लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं।

मातृ शक्ति योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • गर्भवती महिला का आधार कार्ड
  • आय प्रमाण पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • राशन कार्ड
  • जांच की रिपोर्ट
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • मोबाइल नंबर ओटीपी प्राप्त करने के लिए

मातृ शक्ति योजना के लिए आवेदन कैसे करें।

इस योजना में आवेदन करने के लिए सरकार ने अभी कोई अधिकारिक वेबसाइट जारी नहीं की है अगर कोई ऐसी वेबसाइट जारी करती है तो हम आपको सबसे पहले यहां जानकारी देंगे लेकिन इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आपको नजदीक आंगनवाड़ी केंद्र में जाकर अपना भरकर जमा करवाना होगा जिससे कि आपको इस योजना का लाभ प्राप्त होना शुरू हो जाएगा।

कोई भी महिला गर्भधारण करने के बाद अपना रजिस्ट्रेशन आंगनवाड़ी केंद्र में करवाती है तो वह इस योजना के लिए पत्र होगी और उसे योजना से मिलने वाले सारे लाभ मिलने शुरू हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें

FAQs

मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना क्या है

मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना जोकिंग गर्भवती महिलाओं को 2 किलो चना 1 किलो दाल तथा 1 किलो खाने योग्य तेल प्रदान करती है जिससे की माता तथा बच्चे को संपूर्ण पोषण युक्त आहार उपलब्ध हो सके और आगे चलकर उनके विकास में संपूर्ण योगदान रहे क्योंकि इस समय बच्चे तथा माता को सबसे ज्यादा पोषण युक्त आहार की जरूरत होती है इसलिए सरकार ने यह योजना का शुभारंभ किया है।

मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना का मुख्य उद्देश्य क्या है

मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना का मुख्य उद्देश्य प्रदेश की गर्भवती महिलाओं को पोषण युक्त कहार उपलब्ध करवाना है जिससे कि उनमें कुपोषण तथा एनीमिया जैसी बीमारियों से छुटकारा मिल सके और बच्चे की आगे चलकर विकास में कोई परेशानी ना आए।

मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना की शुरुआत कब हुई

मुख्यमंत्री मातृ शक्ति योजना की शुरुआत 18 जून 2022 को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा गुजरात के वडोदरा में की गई इस योजना की शुरुआत उन्होंने अपनी माता के 100वें जन्मदिन के अवसर पर की।

Leave a Comment